Google+ Badge

Wednesday, 7 June 2017

ऐ मेरे दोस्त

न भूली हूँ न भूलूँगी ऐ मेरे दोस्त
आज भी तुम मेरी सांसों में जिंदा हो

शीरीं मंसूरी 'तस्कीन'

No comments:

Post a Comment