Google+ Badge

Monday, 12 June 2017

तुम जैसा कोई नहीं

ढूंढ़ने चली थी हर इंसान के अन्दर तुम्हें
न पता था तुम जैसा कोई नहीं इस जहाँ में

शीरीं मंसूरी 'तस्कीन'

No comments:

Post a Comment