Google+ Badge

Monday, 19 June 2017

होसलों और उम्मीदों

एक नई कोशिश की है... शायद इसे लेखन तो नहीं कहा जा सकता, आप चाहें तो कह भी सकते हैं... कुछ क़लम घिसी है ... क्या निकला ... खुद तय करना मुश्किल है.... आप बताइयेगा

मैं सागर की रेत, तुम सागर की लहर
मैं होंसलों और उम्मीदों से
सागर की रेत से घर बनाती हूँ

और तुम हमेशा की तरह
मेरे होसलों और उम्मीदों से बने घर को
हर बार की तरह तोड़ कर चले जाते हो


शीरीं “तस्कीन”

3 comments:

  1. नमस्ते, आपकी यह रचना गुरुवार 22 -06 -2017 को "पाँच लिंकों का आनंद " http://halchalwith5links.blogspot.in में लिंक की गयी है। चर्चा के लिए आप भी आइयेगा ,आप सादर आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुंदर...

    ReplyDelete