Google+ Badge

Sunday, 4 June 2017

कड़वे

सच्चे बोल कड़वे होते हैं 

शीरीं मंसूरी 'तस्कीन'


No comments:

Post a Comment