Google+ Badge

Saturday, 17 June 2017

गलती तेरी नहीं

गलती तेरी नहीं मेरी थी जो
मेरी आँखें तेरा दिल न पढ़ पायीं

शीरीं मंसूरी 'तस्कीन'

No comments:

Post a Comment