Google+ Badge

Sunday, 18 June 2017

ज़िन्दगी का सफ़र

ज़िन्दगी का सफ़र किसी ने न जाना 


मैं अंजानी तू बेगाना 

शीरीं मंसूरी 'तस्कीन'


No comments:

Post a Comment