Google+ Badge

Thursday, 11 January 2018

इतने सालों में मिले तो थे हम तुम

इतने सालों में मिले तो थे हम तुम
दिल में खुशी थी खुशी पहले जैसी न थी
उस जगह बैठे तो थे हम तुम
मगर तुम तुम न थे मैं मैं न थी
शायद वक़्त ने हम दोनों को बदल दिया
हम दोनों होकर भी वहाँ नहीं थे


शीरीं मंसूरी "तस्कीन"

3 comments:

  1. नमस्ते,

    आपकी यह प्रस्तुति BLOG "पाँच लिंकों का आनंद"
    ( http://halchalwith5links.blogspot.in ) में
    गुरुवार 6 दिसम्बर 2018 को प्रकाशनार्थ 1238 वें अंक में सम्मिलित की गयी है।

    प्रातः 4 बजे के उपरान्त प्रकाशित अंक अवलोकनार्थ उपलब्ध होगा।
    चर्चा में शामिल होने के लिए आप सादर आमंत्रित हैं, आइयेगा ज़रूर।
    सधन्यवाद।

    ReplyDelete
  2. बहुत अच्छा लिखा है। ऐसे ही लिखते रहिए। हिंदी में कुछ रोचक ख़बरें पड़ने के लिए आप Top Fibe पर भी विजिट कर सकते हैं

    ReplyDelete
  3. बहुत सुंदर तुम तुम न थे मै मैं न थी ।
    वजह न पुछो आलम ही बदला सा था
    कुछ भी क्या कहते वक्त का सितम था।

    ReplyDelete