Google+ Badge

Monday, 1 January 2018

मेरा तुम्हारा साथ एक पतंग और हवा के जैसा है

मेरा तुम्हारा साथ एक पतंग और हवा के जैसा है
जब एक पतंग और हवा एक-दूसरे का साथ पाकर
नीले आकाश में जब दूर तलक निकल जाते हैं
जहाँ उन्हें दूर तलक कोई छू नहीं सकता
उसी तरह मेरा-तुम्हारा साथ पतंग और हवा जैसा है 
जब तुम मेरे साथ-साथ चलते हो तो
मैं हर मुश्किल को पार कर लेती हूँ
और ज्यों हवा पतंग का साथ छोड़ देती है
तो पतंग अकेली लड़ते-लड़ते कट जाती है
उसी तरह जब तुम मेरा हाथ छोड़ते हो
तो मैं अपनी मंजिल से बहुत दूर चली जाती हूँ


शीरीं "तस्कीन"

No comments:

Post a Comment