Google+ Badge

Tuesday, 2 January 2018

मैं जिद्दी हूँ -

तुम मुझसे बार बार कहते थे
मैं जिद्दी हूँ - मैं जिद्दी हूँ
पर तुम ने मेरी जिद न पूँछी
शायद पूँछ लेते तुम
मुझे सिर्फ तुम्हें पाने की जिद है
तो शायद उस दिन से तुम मुझे
जिद्दी कहना भूल जाते


शीरीं मंसूरी "तस्कीन"

1 comment: