Google+ Badge

Monday, 8 January 2018

शिकायतें तो बहुत हैं तुमसे

शिकायतें तो बहुत हैं तुमसे
मगर डर लगता है कि कहीं
तुम रूठ न जाओ हमसे....


शीरीं मंसूरी "तस्कीन"

1 comment: