Google+ Badge

Wednesday, 10 January 2018

हज़ार मर्तबा लेने के लिए तैयार हूँ

ढेर सारे आँसूओं के साथ जब तुम
मेरे चेहरे पर खिलखिलाती हुई मुस्कान 
दे जाते हो कसम खुद की मैं तुम्हारे दिए
हुए उन हज़ार आँसूओं को
हज़ार मर्तबा लेने के लिए तैयार हूँ
                                 

शीरीं मंसूरी "तस्कीन"

No comments:

Post a Comment