Google+ Badge

Monday, 27 November 2017

रमज़ान का पाक़ महीना

रमज़ान का पाक़ महीना लूट लो सवाब जितना लूटना है पता नहीं ऐसा पाक महीना फिर मिले न मिले

शीरीं मंसूरी “तस्कीन”

No comments:

Post a Comment