Google+ Badge

Friday, 29 December 2017

आज वारिश आयी थी मेरे घर

आज वारिश आयी थी मेरे घर
वारिश भी आयी तुम्हारी कुछ यादें भी
अपने साथ-साथ लायी थी सनम
याद है तुम्हें जब हम उस दिन पहली बार
उस वारिश में साथ-साथ भीगे थे

शीरीं मंसूरी "तस्कीन"

No comments:

Post a Comment